नासा के अधिकारी ने किया खतरनाक खुलासा, कहा धरती से टकराएगा खतरनाक खगोलीय पिंड, लेकिन..!

हाल ही में कॉस्मिक खतरों को लेकर एक कांफ्रेंस का आयोजन किया गया था तथा इस आयोजन में बहुत सारे वैज्ञानिकों ने हिस्सा लिया था। इस कांफ्रेंस के दूसरे दिन नासा के ‘सेंटर फॉर नीयर अर्थ आब्‍जेक्‍ट स्‍टडीज’ के मैनेजर पॉल चडस ने एक बयान देकर हर किसी को आश्चर्य कर दिया। अपने बयान में पॉल चडस ने एक खगोलीय पिंड के धरती से टकराने की बात कही और कहा कि ये खगोलीय पिंड आने वाले आठ वर्षों में धरती से टकरा सकता है।

Loading...

अपने बयान में पॉल चडस ने कहा कि इस खगोलीय पिंड का नाम एस्टेरॉएड 2019-PDC है और ये धरती के जिस भाग से टकराएगा वो हिस्सा बहुत बुरी तरह से तबाह हो जाएगा। इस खगोलीय पिंड के टकराने की संभावना 10 फीसदी है तथा इस खगोलीय पिंड की टक्‍कर से धरती का एक शहर तबाह हो सकता है। अपने बयान में पॉल ने आगे कहा कि ये खगोलीय पिंड धरती के किस भाग से टकराएगा इसके बारे में कुछ कहा नहीं जा सकता है। लेकिन ऐसा अनुमान है कि ये खगोलीय पिंड न्यूयॉर्क, डेनवर, पश्चिम और मध्य अफ्रीका से टकरा सकता है।

पॉल चडस के इस बयान से कांफ्रेंस में उपस्थित हर व्यक्ति हैरान रहे गया और उन्होंने पॉल से पूछा की यदि ऐसा है तो इस बारे में क्‍या करना चाहते हैं? वहीं इस सवाल के जवाब में पॉल चडस ने कांफ्रेंस में उपस्थित लोगों से कहा कि आप लोग परेशान मत हो 2019-PDC की कोई भी चीज धरती से नहीं टकराने वाली है।

यह एक अभ्यास था और आने वाले सालों में किसी भी प्रकार का खगोलीय पिंड धरती से नहीं टकराने वाला है। अपने इस बयान में पॉल चडस ने आगे कहा कि 20,000 से ज्यादा विश्लेषणों खगोलीय पिंड से जुड़े हुए किए गए हैं और इन विश्लेषणों की मानें तो अगली सदी में इंसानों के समाप्त होने की संभावना 10,000 में 1 है। पॉल के इस बयान के बाद हर किसी ने राहत की सांस ली।

वर्ष 2013 में टकराया था पृथ्वी से खगोलीय पिंड

गौरतलब है कि अंतरिक्ष में कई प्रकार के खगोलीय पिंड घूमते रहते हैं, जो कि धरती से बहुत दूर हैं और इन खगोलीय पिंड से धरती को किसी भी प्रकार का खतरा नहीं हैं। मगर साल 2013 में एक खगोलीय पिंड धरती से टकरा गया था और खगोलीय पिंड के टकराने के चलते बहुत नुकसान उस समय हुआ था। मेंच चेलियाबिंस्क में एक छोटा पिंड टकराया था और इस खगोलीय पिंड के टकराने के कारण 66 फीट गहरा गड्ढा हो गया था।

दक्षिणी यूराल क्षेत्र में हुई इस घटना से उस समय करीब 1500 लोग घायल भी हो गए थे और बहुत नुकसान भी हुआ था। धरती से इस प्रकार का कोई खगोलीय पिंड फिर से ना टकराए इसके लिए वैज्ञानिक अंतिरक्ष पर नजर रखे हुए हैं। जबकि इस कांफ्रेंस में नासा की ओर से ये स्पष्ट कर दिया गया है कि अगली सदी तक कोई भी खतरनाक खगोलीय धरती से नहीं टकराने वाला है और इंसानों के समाप्त होने की संभावना 10,000 में से सिर्फ एक है।

Loading...