एक लड़की की कहानी जिसकी जिंदगी उसके भाई ने बर्बाद की और उसे प्रेमी ने फिर से सवार दी…!

असल जिंदगी में लड़की के चहरे या शरीर पर हलका सा भी दाग धब्बा दिख जाए तो लोग रिश्ता तोड़ कर चले जाते हैं फिर जली हुई लड़की से कौन शादी करेगा, किन्तु ऐसा रियल में हुआ है। एक ऐसा बंधन सच में बंधा है जिसे जानकर आप भी विश्वास नहीं करेंगे। प्यार सच्चा है औऱ इसकी दास्ता स्वयं उस लड़की ने अपने जुबान से बयां की है।

विवाह में गई थी ललिता

Loading...

ललिता ने बताया कि 2012 में वह आजमगढ़ एक कजिन की विवाह में गई थी। घर की बड़ी लड़की है इस नाते बहुत सारे काम की जिम्मेदारी उसके ऊपर थी। वह शादी वाले दिन तक जी जान से काम कर रही थी और इस काम के अलावा उसे कोई सुध ना थी।इसी शादी के माहौल में एक दिन उसने अपने छोटे भाई और दूसरी कजिन को आपस में लड़ते देखा।

पता नहीं किस बात पर दोनों की बहस हो रही थी। हालांकि बहस इतन बढ़ गई की ललित को मध्य बचाव करने आना पड़ा। वह दोनों को समझा रही थी पर कोई भी शांत होने का नाम नहीं ले रहा था। ललिता को काम करना था और दोनों परेशान कर रहे थे इसलिए उसने गुस्से में एक एक थप्पड़ लगा दिए। लड़ाई तुरन्त रुक गई। दोनों शांत हो गए और फिर ललिता भी अपने काम में व्यस्त हो गई। बूरा तो लगा, किन्तु बड़ी बहन थी तो इतना हक तो था ही। वह शादी अच्छे से संपन्न हो गई, किन्तु इसके बाद ललिता का बूरा वक्त आ गया।

कजिन ने किया एसिड अटैक

ललिता ने कहा कि उस विवाह के ठीक पांच महीने बाद मेरी शदी होनी थी, किन्तु शादी के ठीक 15 दिन पहले मेरे उसी कजिन नें मुझपर एसिड फेंक दिया। यह एसिड उस थप्पड़ का बदला था। मेरा चेहरा पिघलने लगा। सिर्फ दर्द और दर्द बाकी कोई एहसास नहीं बचा। मैं चीख रही थी और परिवार वाले मुझे फौरन अस्पताल लेकर गए। महीनों तक मुझे अस्पताल में रहना था। कहां 15 दिन बाद ललिता की दूसरी दुनिया बसती, कहां आज उसकी दुनिया ही उजड़ गई थी।

ललिता ने आगे बताया कि जब अस्पताल से छूटी तो सबसे पहले अपना चेहरा देखा। आईने में जो देखा उसे देखकर फूट-फूट कर रोई। वह चेहरा ही बदल चुका था। अब मैं कोई और ललिता हो चुकी थी। वह चेहरा जो बचपन में मेरी पहचान था। गांव में अब नहीं रह सकती थी इसलिए मुंब आ गई। जान पहचान के लोग थे तो मुझे काम मिल गया। काम पर तो रोज जाती किन्तु सबकी चीरती नजरों के मध्य काम करना भी कठिन था। हर कोई मुझे देखता था और मेरा दिल करता की मैं कहींग गढ़ जाऊं।

रान्ग नंबर से बदली दुनिया

ललिता की जिंदगी बदल तो चुकी थी, किन्तु उसमें एक नया मोड आना बाकी था। ललिता ने बताया कि का के ए वह कोई नंबर मिला रही थी औऱ फोन गलत जगह लग गया। मिनटभर की बात से पता चल गया कि रॉन्ग नंबर ही है। कुछ दिन बीते और रॉन्ग नंबर वाला कहानी भी मैं भूल गई। कुछ दिन बाद एक फोन आया। आवाज सुनी हुई सी लगी। वही रॉन्ग नंबर था जिससे कुछ दिन पहले बात की थी। उसने बताया कि उसका नाम रवि शंकर है।रवि ने उससे फोन पर कहा कि उनृसने गलती से फोन नहीं किया है। मुझे अजीब लगा। वो रोज फोन करने लगा और हर रोज मुझसे बात करने की प्रयास। मैं भी उससे बात करने लगी। उसकी बातें मुझे अच्छी लगती और उससे बात करना मुझे अच्छा लगता।

रवि ललिता की शादी

अगली सुबह उसने फिर फोन किया। मैंने फोन उठाया तो वह शांत था औऱ मैं बदहवास। कुछ दिन बाद उसने मेरे सामने प्यार का इजार कर दिया।मैंने उसे समझाया कि बिना चेहरे देखे तो तुम मुझसे प्यार कर सकते हो , किन्तु जला हुआ चेहरा देखकर तुम प्यार नहीं कर पाओगे। बदले में उसने कहा कि वह मुझसे प्यार करता है, मेरे चेहरे से नहीं। ऐसे कितने ही रिश्ते होते हैं जो खूबसूरत चेहरे के कारण जुड़ते हैं औऱ फिर एक वक्त के बाद समाप्त हो जाते हैं।

उसे मेरी आवाज , मेरे दिल और मेरी जिंदादिली से प्यार था। मैंने भी आखिर उसे हां कर दी। इसके बाद हमारी शादी हो गई।ललिता ने आगे कहा कि मेरे मायके में कोई आईना नहीं था क्योंकि मेरे परिवार वालों को लगता था कि मैं चेहरा देखकर तकलीफ में आ जाऊंगी,किन्तु मेरे नए घर में मैंन बहुत बड़े बड़े शीशे लगवाए हैं। हम एक साथ स्वयं को उस शीशे में देखते हैं। प्यार की खूबसूरती से मेरे सारे जख्म भर चुके हैं।

Loading...