बैंड-बाजे पर निकली बारात मगर नहीं लाए बेटे की दुल्हन, जानिए एक पिता ने क्यों किया ऐसा..!

कईं बार सुनने में आता है कि मंडप और फेरों से पहले शादियां टूट जाती हैं। इसके कईं वजह हो सकते हैं लेकिन उत्‍तर गुजरात के हिम्मतनगर में एक अनोखा विवाह महोत्‍सव हुआ जिसमें दुल्‍हा, बैंडबाजा, बाराती तो थे मगर बस कमी थी तो एक दुल्‍हन की। यहां शादी पूरी धूमधाम से हुई और बारातियों को भोजन भी करवाया गया परन्तु कोई दुल्हन घर नहीं आई। यहां रहने वाले अजय बारोट की बारात धूमधाम से निकली अवश्य लेकिन वापस घर लौट गई।

Loading...

जानकारी के अनुसार, हिम्मतनगर के चांपलानार गांव के रहने वाले विपुल बारोट के पुत्र अजय बारोट विशेष बच्चे हैं। बेटे के दिव्यांग होने के कारण परिवार वालों ने उनका विवाह नहीं कराने का निर्णय किया। लेकिन, अपने मित्र व अन्‍य युवाओं की विवाह समारोह देखकर अजय ने भी विवाह करने के जिद पकड़ ली।

इसके पश्चात बेटे की जिद व उसकी खुशियों के लिए परिवार ने एक साधारण युवक की तरह अपने बेटे की भी शादी की तैयारियां की तथा उसके विवाह के आमंत्रण पत्र छपवाए, मेहमानों को न्‍यौता दिया, सभी रिश्‍तेदारों को बुलाया। निश्चित समय पर सारी रिवाज निभाए गए और फिर प्रीतिभोज के आयोजन के साथ अजय को दूल्‍हे की तरह सजाकर घोड़ी पर बैठाया गया।

दूल्हा तैयार होकर घोड़ी पर सवार हुआ और बैंड बाजा तथा बारात के साथ निकासी निकाली। इस विवाह में कमी थी तो बस दुल्‍हन की और सात फेरों की। बहन निराली, मामा कमलेश बारोट आदि सभी ने विवाह की प्रत्येक परंपराओं को पूरा करते हुए इस अनोखे विवाह को संपन्‍न कराया। इलाके में यह अनोखी शादी चर्चा का विषय बनी हुई है।

अजय के पिता के अनुसार उनका बेटा मानसिक रूप से बहुत कमजोर है। उसकी मां उसे कम उम्र में ही छोड़कर दुनिया से चली गई। उसे बचपन से ही शादियों में जाने तथा बारात का शौक था। वो हमेशा अपनी शादी की बात करता था। हालांकि, यह संभव नहीं था मगर परिवार वालों से बात करने के बाद हमने उसकी यह अनोखी शादी की। मुझे खुशी है कि मैं उसकी इच्छा पूरी कर सका।

Loading...